Bharat Ki Videsh Niti, 5/e

Bharat Ki Videsh Niti, 5/e

Authors : V N Khanna, Lipakshi Arora & Leslie K Kumar

  • ISBN
  • Pages
  • Binding
  • Language
  • Imprint
  • List Price
Buy e-book online :
 

Save 25%, Apply coupon code SCHAND25 during checkout

 

About the Author

V N Khanna :-
He was Reader in Political Science at Deshbandhu College, University of Delhi. In his long career spanning over four decades, he was actively involved with student development activities, and also served as principal of the college for a year. He participated in cooperative teaching in political science at the University of Delhi for a long time. He was a life member of the Indian Political Science Association and a member of the International Political Science Association. He authored a number of books in related areas.


Lipakshi Arora :-
???????? ?????? ?? 1997 ??? ?????? ????????????? ?? ??????? ??????? ??? ??????????? ????? ??????? ??? ???? ????????????? ?? ??? ????? ??????? ???? ?? ??? ?? ?? ???????? ?? ?????? ???? ???? ????


Leslie K Kumar :-
He is Assistant Professor at Lady Shri Ram College, University of Delhi. Since 2011 he has taught a large number of courses like India's Foreign Policy, Politics of South Asia, International Relations, Global Politics, Political Theory, Classical and Modern Political Philosophy. His areas of interest are International Relations Studies, South Asia, Radicalization Studies, Regionalism and Politics and Ethics of Artificial Intelligence.
Dr Leslie has also delivered special lectures in India and abroad. An alumnus of Loyola College, Chennai and JNU, New Delhi, he has contributed research papers in national and international journals of repute. 
 

About the Book

विदेश नीति के माध्यम से प्रत्येक देश अपने राष्ट्रीय हितों की सुरक्षा तथा अभिवृद्धि सुनिश्चित करता है। भारत भी अपनी विदेश नीति को अपने राष्ट्रीय हितों की सुरक्षा के संदर्भ में निर्धारित और लागू करता है। भारत ने प्रारंभ से ही स्वयं को गुटों की राजनीति से पृथक रखा। यह नीति समय की कसौटी पर खरी उतरी। राष्ट्रों की पारस्परिक निर्भरता के युग में भारत सभी देशों के साथ शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व पर आधारित मैत्री को प्रोत्साहित करने वाली विदेश नीति पर चलता आया है। विभिन्न अन्तर्राष्ट्रीय एवं क्षेत्रीय संगठनों में भी भारत महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता रहा है।
सरल भाषा में लिखित इस पुस्तक में पड़ोसी देशों के साथ भारत के संबंधों पर बल देते हुए, दो महाशक्तियों के साथ संबंधों का सटीक विवेचन किया गया है। इस रचना में भारत की सुरक्षा एवं परमाणु नीतियों तथा संयुक्त राष्ट्र एवं सार्क में भारत की भूमिका का विश्लेषण भी किया गया है। भारत-चीन संबंधों में हो रहे सुधार, तथा विवादास्पद भारत-अमरीकी परमाणु समझौते की समीक्षा भी की गई है।
स्नातक, स्नातकोत्तर एवं संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षाओं के लिए एक प्रामाणिक पुस्तक।
 

New in this Edition

तीन नए अध्यायों द्वारा इस पुस्तक का नवीनीकरण। ये अध्याय हैं-
• क्रमांक 2: भारत और जलवायु परिवर्तन की राजनीति
• क्रमांक 15: भारत और इज़राइल संबंध, प्रवृत्ति और संभावनाएँ
• क्रमांक 16: 21वीं सदी में भारत की विदेश नीति
 

Table of Content

1. विदेश नीति और राष्ट्रीय हित, 2. भारत और जलवायु परिवर्तन की राजनीति, 3. भारत की विदेश नीति के निर्धारक तत्त्व, 4. भारत की विदेश नीति के उद्देश्य और सिद्धान्त, 5. गुट-निरपेक्षता की नीति, 6. भारत और उसके पड़ोसी देशः पाकिस्तान, 7. भारत और उसके पड़ोसी देशः चीन, 8. भारत और उसके पड़ोसी देशः नेपाल, बांग्लादेश और श्रीलंका, 9. निरस्त्रीकरण, भारत की सुरक्षा और परमाणु अप्रसार, 10. भारत और संयुक्त राष्ट्र, 11. भारत और दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन (सार्क), 12. भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका, 13. भारत-रूस संबंध, 14. गुट-निरपेक्षता से परमाणु भारत तक, 15. भारत और इजराइल सम्बन्धः प्रवृत्ति और संभावनाएँ, 16. 21वीं सदी में भारत की विदेश नीति • विहंगावलोकन